राजस्थान के परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने आरोप लगाया कि देश के करोड़ों लोगों छोड़कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 6.5 करोड़ वैक्सीन पाकिस्तान और बांग्लादेश को भेज दी। पहले देशवासियों को वैक्सीन लगाकर यहां के लोगों को सुरक्षित करना चाहिए था। दुनिया के समस्त देश पहले अपने नागरिकों को वैक्सीन लगाकर कारोना महामारी से बचाने का प्रयास करते हैं। रविवार को मीडिया से बात करते हुए खाचरियावास ने कहा कि ऐसे समय में जब कोरोना बहुत तेजी से फैल रहा है, हालात बिगड़ रहे हैं तो दूसरे देशों को वैक्सीन सप्लाई की गई। देश के राज्यों को नहीं भेजी गई, जबकि वे मांगते रहे। जितनी वैक्सीन पाकिस्तान और बांग्लादेश को भेजी गई, उतनी आज अगर यहां उपलब्ध होती तो हमारे लोगों को बचाने के काम आती।

उन्होंने कहा कि इसी तरह रेमडेसिविर इंजेक्शन और अन्य आवश्यक दवाओं को लेकर केंद्र सरकार को अपनी नीति स्पष्ट करनी चाहिए। इनका स्टॉक करने वालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि राजस्थान सरकार ऐसी कंपनियों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करेगी, जो दवाओं को लेकर ब्लैकमेलिंग की कोशिश करेगी। खाचरियावास ने कहा कि ऑक्सीजन को लेकर केंद्र सरकार की नीति स्पष्ट नहीं है। ऑक्सीजन पर केंद्र सरकार ने कंट्रोल कर लिया है। अपने हिसाब से राज्यों को दी जा रही है। राजस्थान को ऑक्सीजन की ज्यादा जरूरत है, ऐसे में केंद्र सरकार मांग के अनुसार सप्लाई करे।

प्रदेश के एक दर्जन जिलों में हालात बेकाबू होते जा रहे हैं। अस्पतालों में बेड कम पड़ने के साथ ही ऑक्सीजन सिलेंडर की मांग बढ़ी है। अस्पतालों में वेंटिलेटर की जरूरत बढ़ी है, लेकिन मिल नहीं रहे। रिकवरी रेट में पिछले तीन सप्ताह में 12 फीसद की गिरावट आई है। कोरोना की दूसरी लहर का अब तक का रिकॉर्ड तोड़ते हुए रविवार को 10,514 संक्रमित मिलने के साथ ही 42 लोगों की मौत हुई है। हालात इस कदर बिगड़ रहे हैं कि 67,387 एक्टिव केस होने के साथ ही अब तक कुल चार लाख 14 हजार 869 पॉजिटिव मिले हैं। मृतकों की कुल संख्या 3151 हो गई।