यहाँ पुलिस ने पकड़े तीन शख्स,माया नगरी से सीखा एटीएम खाली करने का तरीका,उड़ाए लाखों

0
156

आजमगढ़, मऊ, गोरखपुर, इलाहाबाद से लेकर छत्तीसगढ़, बिहार, झारखंड के लोगों के एटीएम कार्ड की क्लोनिंग कर खाते से रुपये निकालने वाले गिरोह के तीन सदस्यों को वाराणसी में पुलिस ने गिरफ्तार किया है। आरोपियों को मुबारकपुर पुलिस ने सोमवार शाम को पकड़ा था।

चेकिंग के दौरान सठियांव बाजार के पास से गिरफ्तार इन जालसाजों के पास से पांच हजार रुपये, एक कार, लैपटॉप, पांच एटीएम कार्ड, क्लोनिंग रीडर और राइटर डिवाइस, मोबाइल बरामद हुआ है। पूछताछ के दौरान आरोपियों ने बताया कि उन्होंने क्लोनिंग की कला मुंबई से सीखी है। अब तक कई लोगों के खातों से लाखों रुपये उड़ा चुके हैं।

एसपी त्रिवेणी सिंह के मुताबिक गिरफ्तार आरोपियों में संदीप यादव पुत्र रामसनेही मऊ के मधुबन थाने के कंधरापुर गांव, मोहम्मदाबाद थाने के अन्नूमठिया गांव निवासी शैलेंद्र उर्फ कैलेंद्र पुत्र कन्हैया मौर्य और मुबारकपुर के अबाड़ी गांव निवासी रामसिंह यादव पुत्र भृगुनाथ है।

मुखबिर की सूचना पर प्रभारी निरीक्षक मुबारकपुर अखिलेश कुमार मिश्रा अपनी व साइबर सेल की टीम के साथ सठियांव बाजार के पास वाहन चेकिंग के दौरान इन तीनों आरोपियों को पकड़ा। तीनों कार से कहीं जा रहे हैं।

तलाशी के दौरान इनके पास से एक लैपटॉप, एक कार्ड क्लोनिंग रीडर, राइटर डिवाइस, पांच एटीएम कार्ड, दो क्लोनिंग के लिए रखा गया ब्लैंक कार्ड, पांच मोबाइल, पांच हजार रुपये, एक कार और तीन अलग-अलग गाड़ियों का लिखा हुआ नंबर मिला। इसी शक के आधार पर इन्हें हिरासत में लेकर पूछताछ की गई। सभी ने अपना जुर्म कुबूल किया और फ्राड करने का तरीका भी बताया।

इस तरह से घटना को देते हैं अंजाम :-एटीएम कार्ड से रुपये निकालते समय गिरोह के सदस्य केबिन में खड़े रहते हैं। जैसे ही कोई अनजान व्यक्ति कार्ड मशीन में डालता है। तुरंत मशीन पर लगे नंबरों के ऊपर दिए गए बटन को दबा देते हैं, जिससे मशीन हैंग हो जाती है। इस दौरान जालसाज चालाकी से कोड और एटीएम मशीन से निकलने वाली रसीद के जरिए कार्ड का नंबर प्राप्त कर लेते हैं। राइटर डिवाइस के जरिए कार्ड को रीड कर उस कार्ड का डुप्लीकेट कार्ड बनाकर खाते से रुपये उड़ाते हैं। कुछ लोगों का कार्ड बदलकर भी खाते से रुपये निकालते हैं।

पहले भी संदीप हो चुका है गिरफ्तार :-गिरफ्तार किए गए तीनों जालसाज में संदीप यादव पूर्व में भी गिरफ्तार हो चुका है। वह इन दोनों को सरगना है। पूछताछ के दौरान संदीप यादव ने बताया कि उसका फ्राड का यह तरीका सिखाने वाला गुरु झारखंड का रहने वाला है। उससे मुंबई में मुलाकात हुई थी।

एसपी त्रिवेणी सिंह ने बताया कि गिरफ्तार इन तीनों आरोपियों का चालान कर दिया गया। इस गिरोह से जुड़े अन्य सदस्यों की तलाश की जा रही है। गिरफ्तार आरोपियों पर गैंगेस्टर एक्ट के तहत भी कार्रवाई की जाएगी।