यूपी बार कौंसिल की अध्यक्ष दरवेश यादव की कचहरी परिसर में गोली मारकर हत्या,आज एटा में होगा अंतिम संस्कार

0
77

आगरा:-दो दिन पहले ही उत्तर प्रदेश बार कौंसिल की अध्यक्ष चुनी गईं दरवेश यादव की दीवानी कचहरी परिसर में गोली मारकर हत्या कर दी गई है। वह अध्यक्ष बनने पर स्वागत समारोह के बाद वरिष्ठ अधिवक्ता अरविंद कुमार मिश्रा के चैम्बर में बैठी थीं। वहीं, पर पूर्व सहयोगी अधिवक्ता मनीष शर्मा ने अपनी लाइसेंसी पिस्‍टल से यूपी बार कौंसिल की अध्यक्ष को पांच गोली मार दीं। इसके बाद मनीष शर्मा ने खुद को भी गोली मार ली।मनीष शर्मा को सिकंदरा हाईवे स्थित रेनबो अस्पताल में भर्ती कराया गया है। दरवेश को पुष्पांजलि अस्पताल में डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया है। एडीजी अजय आनंद समेत अन्य अधिकारी और वरिष्ठ अधिवक्ता मौके पर पहुंच चुके हैं।  हत्या के कारणों का पता नहीं लग सका है।

प्रयागराज में रविवार को आगरा की दरवेश यादव और वाराणसी के हरिशंकर सिंह यूपी बार कौंसिल के अध्यक्ष संयुक्त रूप से चुने गए थे। अध्यक्ष पद पर हरिशंकर सिंह व दरवेश यादव को 12-12 बराबर वोट मिले। बराबर मत के आधार पर दोनों को छह-छह माह के लिए चयनित किया गया। परंपरा व सहमति के आधार पर दरवेश यादव पहले छह माह और हरिशंकर सिंह को शेष छह माह अध्यक्ष रहना था।

एडीजी यूपी पुलिस आनंद कुमार ने बताया कि उत्तर प्रदेश बार कौंसिल अध्यक्ष दरवेश यादव की उनके सहयोगी मनीष शर्मा ने एक कार्यक्रम के दौरान गोलीमार हत्या कर दी। उसने उन्हें 5 गोलियां मारीं, उन्हें अस्पताल ले जाया गया, जहां उनकी मौत हो गई।

मनीष को ले गए मेदांता:-नवनिर्वाचित अध्‍यक्ष दरवेश को गोली मारने के बाद खुद को दो गोली मारने वाले अधिवक्‍ता मनीष की हालत भी खतरे में है। एक गोली उनके सिर में लगी है। यहां रेनबो हॉस्पिटल में डाॅक्‍टराेे ने उनकी हालत चिंताजनक बताई। इसके बाद परिजन मनीष को मेदांता हॉस्पिटल गुरुग्राम ले गए हैं।

अंतिम संस्‍कार होगा एटा में:-उत्तर प्रदेश बार कौंसिल की नवनिर्वाचित अध्यक्ष दरवेश यादव का अंतिम संस्कार आज उनके पैत्रक निवास एटा के गांव चांदपुर में होगा। एटा के गांव चांदपुर निवासी दरवेश यादव की कल आगरा में हत्या कर दी गई थी। प्रदेश सरकार के कानून मंत्री ब्रजेश पाठक एटा पहुंचे हैं। वह दरवेश यादव के अंतिम संस्कार में मौजूद रहेंगे।

दरवेश सिंह का पार्थिव शरीर पहुंचने के बाद उनके गांव चांदपुर में लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा है। प्रदेश के कानून मंत्री ब्रजेश पाठक के साथ ही कई न्यायिक अधिकारी, अधिवक्ता तथा सपा पदाधिकारी वहां मौजूद हैं। इनके साथ ही पूर्व मुख्यमंत्री व सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के भी यहां पहुंचने की चर्चा है। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव आज उनके गांव जा सकते हैं जबकि बसपा मुखिया मायावती ने इस हत्या की निंदा करने के साथ उत्तर प्रदेश की खराब कानून-व्यवस्था को लेकर सीएम योगी आदित्यनाथ पर हमला बोला है।

दरवेश यादव का आज उनके पैतृक आवास एटा के गांव चांदपुर में अंतिम संस्कार होगा। प्रदेश के कानून मंत्री ब्रजेश पाठक उनके अंतिम संस्कार में मौजूद रहेंगे। पाठक आज सुबह ही एटा पहुंचे हैं। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव आज एटा जाकर दरवेश यादव के परिवार के लोगों को सांत्वना देंगे। दरवेश यादव का पार्थिव शरीर कल ही एटा आ गया था।

मायावती ने भी साधा निशाना:-आगरा में दरवेश यादव की हत्या के बाद बसपा प्रमुख मायावती ने ट्वीट करके भाजपा सरकार पर निशाना साधा। मायावती ने कहा कि यूपी बार कौंसिल की नवनिर्वाचित अध्यक्ष दरवेश यादव की आगरा कोर्ट परिसर में जघन्य हत्या अति-दु:खद व अति-निन्दनीय है। इसके साथ ही शामली में पुलिस द्वारा पत्रकारों की अकारण पिटाई जैसी घटनायें साबित करती हैं कि लोकसभा चुनाव के बाद भाजपा के शासन में अराजकता व जंगलराज और भी ज्यादा बढ़ गया है। पुलिस निरंकुश हो गई है।

सीबीआई जांच की मांग:-एटा में दरवेश यादव पार्थिव शरीर घर पहुंचने पर परिवार के लोगों की हत्या की सीबीआई जांच की मांग की। परिजनों ने हत्या के आरोपी मनीष पर आरोप लगाया है कि उसने बार काउंसिल के अधिवक्ताओं के कल्याण के लिए आने वाले पैसों का गबन किया था।

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने जताया दुख:-इलाहाबाद हाईकोर्ट ने यूपी बार काउंसिल की अध्यक्ष दरवेश यादव की हत्या पर दुख जताया है। इलाहाबाद हाई कोर्ट साथ ही लखनऊ बेंच समेत प्रदेश के सभी जिला अदालतों में अधिवक्ताओं और न्यायिक प्रक्रिया से जुड़े लोगों की सुरक्षा को लेकर प्रदेश सरकार से तत्काल प्रभावी कदम उठाने का निर्देश दिया है। आगरा में हुई इस दु:खद घटना पर चिंता व्यक्त करते हुए हाईकोर्ट के रजिस्टार जनरल ने पत्र जारी किया है।

बार कौंसिल ने की 50 लाख रुपये की आर्थिक सहायता की मांग:-दरवेश यादव की हत्या पर गहरा दुख जताते हुए उत्तर प्रदेश बार कौंसिल ने अन्य सदस्यों की सुरक्षा की मांग की है। बार कौंसिल ऑफ इंडिया ने इस हत्याकांड की कड़ी निंदा की है। बीसीआई ने यूपी सरकार से मृतक अध्यक्ष के परिवार के लिए सुरक्षा के साथ ही न्यूनतम 50 लाख रुपये की आर्थिक सहायता मुहैया कराने की मांग की है।

क्या आपको ये रिपोर्ट पसंद आई? हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं. हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें. आप हमें bhim app 930588808@ybl और paytm व phone pe कर सकते है इस न पर 9305888808

www.worldmediatimes.com पर जाकर सबक्राईब  करे हमसे जुड़ेने व विज्ञापन के लिए संपर्क करे अन्य न्यूज़ अपडेट हासिल करने के लिए आप हमें इस न 9452888808 पर कॉल और whatsapp भी कर सकते है आप  youtube  पर भी सबक्राईब करे   Facebook Page और  Twitter   Instagram  पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें अपने मोबाइल पर  World Media Times की Android App