प्रदूषण पर AAP को फटकार-‘ 20 मीटिंग भी कर लो, तब भी कुछ नहीं होगा’

0
229
दिल्ली-एनसीआर में खतरनाक स्तर पर पहुंच चुके वायु प्रदूषण को लेकर नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (NGT) ने गहरी नाराजगी जताई है।

दिल्ली : दिल्ली-एनसीआर में खतरनाक स्तर पर पहुंच चुके वायु प्रदूषण को लेकर नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (NGT) ने गहरी नाराजगी जताई है।

ngt-delhiआज सुनवाई के दौरान दिल्ली सरकार ने एनजीटी को बताया कि प्रदूषण को लेकर कल दो मीटिंग की है। इस पर नाराज एनजीटी ने कहा कि आप 20 मीटिंग कर लीजिए, लेकिन उससे क्या फर्क पड़ेगा? आप कोई एक काम बताइए जो आपने प्रदूषण को कम करने के लिए किया हो।

NGT की दिल्ली सरकार को फटकार, ‘मच्छर मारने का काम प्रदूषण ने कर दिया’

सरकार ने प्रदूषण के लिए क्रॉप बर्निंग को ठहराया जिम्मेदार

सुनवाई में दिल्ली सरकार ने एनजीटी से कहा कि दिल्ली में प्रदूषण के बढ़ने की मुख्य वजह क्रॉप बर्निंग है। इस पर एनजीटी ने नाराजगी जताते हुए कहा कि क्रॉप बर्निंग के अलावा भी दिल्ली में प्रदूषण बढ़ने की कई और वजह है। क्या आपने उस पर कोई काम किया?

एनजीटी ने कहा कि आप अभी तक 10 साल पुरानी ड़ीजल गाडियों को ही दिल्ली की सड़कों से नहीं हटा पाए हैं। हम अपने बच्चों और नौनिहालो को क्या दे रहे हैं? प्रदूषण जो उनके लिए जानलेवा है। हमें सोचना होगा।
एनजीटी ने कहा कि हमने खुद देखा है कि साउथ दिल्ली के कई इलाकों मे बिल्डर्स कंस्ट्रक्शन के दौरान नियमों की धज्जिया उड़ा रहे हैं। उन्हें रोकने वाला कोई नहीं है। कंस्ट्रक्शन के दौरान धूल प्रदूषण बढ़ाने का बड़ा कारण है। डस्ट, प्लास्टिक बर्निंग और कूड़े को जलाने को लेकर अभी तक एजेंसी क्या कर रही हैं?

इस मुद्दे पर एनजीटी ने यूपी, हरियाणा, पंजाब, राजस्थान और दिल्ली के पर्यावरण सचिवों को तलब किया। इस मौके पर एनजीटी ने कहा कि वो हर हाल मे सुनिशिचित करें कि प्रदूषण को कैसे कम करना है? 8 नवंबर को आकर अपनी रिपोर्ट दें।

गौरतलब है कि दिवाली के दिन आतिशबाजी की वजह से पर्यावरण में अचानक बढ़े प्रदूषण ने सिर्फ आसमान में धुंध छा गई है, बल्कि हवा में जानलेवा कण भी मिल गए हैं। प्रदूषण बढ़ने से लोगों का घरों से बाहर निकलना तक दुर्भर हो गया है।

दिल्ली में बदले हालात के बीच एनजीटी ने दिल्ली सरकार को तुरंत इस मामले में बैठक करने को कहा है था। नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए केजरीवाल सरकार को 24 घंटे के अंदर यानी आज रिपोर्ट पेश करने को कहा था।